एवनगार्ड: रूस की नई हाइपरसोनिक मिसाइल प्रणाली

रूस ने नई हाइपरसोनिक इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल (ISBM) प्रणाली एवनगार्ड((Avangard missile)) विकसित की है। यह ध्‍वनि की गति से 27 गुणा तेजी (27 मैक) करीब 33,000 किमी प्रतिघंटा से मार करने में सक्षम है। इतनी तेज रफ्तार से मार करने के कारण यह राडार की पकड़ में भी नहीं आएगी।

एवनगार्ड हाइपरसोनिक मिसाइल प्रणाली दक्षिणी यूरल पहाडियों में तैनात कर दी गई है। यह दो हजार डिग्री तक के तापमान में काम करने में सक्षम है और दो मेगाटन तक के परमाणु हथियार ले जा सकता है।
   राष्‍ट्रपति पुतिन ने एवनगार्ड मिसाइल प्रणाली को एक बड़ी तकनीकी सफलता बताया। उन्‍होंने कहा कि रूस ने अमरीका के प्रक्षेपास्‍त्र रक्षा प्रणाली विकसित करने के प्रयासों को देखते हुए एवनगार्ड मिसाइल विकसित की है।

क्या हैं हाइपरसोनिक मिसाइल?

हाइपरसोनिक मिसाइल आवाज की रफ्तार (1235 किमी प्रतिघंटा) से कम से कम 5 गुना तेजी से उड़ान भर सकती है। यानी न्यूनतम 6174 किमी प्रतिघंटा रफ्तार।

हाइपरसोनिक मिसाइल क्रूज और बैलिस्टिक मिसाइल दोनों के फीचर्स से लेस होती हैं। यह मिसाइल लॉन्च के बाद पृथ्वी की कक्षा से बाहर जाती है।

 इसके बाद जमीन या हवा में मौजूद टारगेट को निशाना बनाती है। इन्हें रोकना काफी मुश्किल होता है। साथ ही तेज रफ्तार की वजह से रडार भी इन्हें पकड़ नहीं पाते।